चीन के साथ अमेरिका ने तोड़े सारे संबंध, दी खतरनाक धमकी

ये कोरोना वायरस चीन के वुहान शहर में गलत चीजों का सेवन करने के कारण फैला है पूरी दुनिया को इस वायरस ने नुकसान पहुँचाया है इसी बात को लेकर कुछ देश चीन पर बेहद नाराज हैं उनमे से एक है अमेरिका | और इस वायरस से सबसे ज्यासा संक्रमिल अमेरिका के लोग ही हुए हैं इसलिए अमेरिका चीन पर सबसे ज्यादा नाराज है

ट्रंप ने कहा चीन में हमने अमेरिकन पेंशन फंड में अरबों डॉलर लगाए थे वो पैसा अब वापस ले लिया है. इसी तरह के और भी कई एक्शन लिए जा रहे हैं. एक पत्रकार ने उनसे पूछा कि अलीबाबा ग्रुप जैसी कंपनियां न्यूयॉर्क स्टॉक एक्सचेंज में लिस्टेड है. लेकिन वो अमेरिकी कंपनियों की तरह अपनी कमाई रिपोर्ट नहीं कर रही है. इस सवाल के जवाब में ट्रंप ने कहा, ‘हमलोग इस मामले को काफी कड़ाई से देख रहे हैं.’

उन्होंने यह भी बताया कि कोरोना के मामले में चीन की निष्क्रियता से वो काफी दुखी हैं. जाहिर है विश्व में इस महामारी की वजह से 3,00,000 लोगों की मौत हो गई है. सिर्फ अमेरिका में 80,000 लोग मरे हैं. इस वजह से पिछले कुछ सप्ताहों में अमेरिकी राष्ट्रपति पर भी चीन के खिलाफ एक्शन लेने के लिए दबाव बन रहा है. कई जानकार मानते हैं कि वुहान से पूरे विश्व में कोरोना फैलने की मुख्य वजह चीन की निष्क्रियता थी.

वहीं अमेरिका के विदेश मंत्री माइक पोम्पियो ने कहा है कि चीन, जहां से ये बीमारी फैली है वो इस बारे में कोई जानकारी नहीं दे रहा है जिससे कि विश्व कोविड-19 के खिलाफ मजबूती से लड़ सके. इतना ही नहीं पोम्पियो ने चीन पर कोविड-19 से सबंधित अमेरिकी रिसर्च को चुराने का भी आरोप लगाया है. विदेश मंत्री ने चीन के इस कृत्य की निंदा की है साथ ही इस तरह की गतिविधियों को रोकने को कहा है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *